हिंदी शायरी - लव शायरी - मंजिल भी उसकी थी


हिंदी शायरी - HINDI SHAYARI



  


मंजिल भी उसकी थी,
रास्ता भी उसका था,
एक मैं ही अकेला था,
बाकि सारा काफिला भी उसका था,
एक साथ चलने की सोच भी उसकी थी,
और बाद में रास्ता बदलने का फैसला भी उसी का था।
Manjil bhee usakee thee,
Raasta bhee usaka tha,
Ek main hee akela tha,
Baaki saara kaaphila bhee usaka tha,
Ek saath chalane kee soch bhee usakee thee,
Aur baad mein raasta badalane ka phaisala bhee usee ka tha.




Contact form

Send